पौराणिक कहानी – शिव पूजा में क्यों काम में नहीं लेते केतकी के फूल (केवड़े के पुष्प)

Lord Shiva and Ketki (Kewra) Flower Story in Hindi : हिन्दू धर्म में देवी – देवताओं के पूजन में सुगन्धित फूलो का बड़ा महत्व है, हम सभी देवी – देवताओं को प्रसन्न करने के लिए पूजन में सुगंधित पुष्प काम में लेते ह... Read More...

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग की कहानी

Somnath Jyotirlinga History in Hindi : शिव पुराण के अनुसार सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, भगवान शिव का प्रथम ज्योतिर्लिंग है। यह मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित है। ऐसी मान्यता है कि इस शिवलिंग की स्थाप... Read More...

विजया एकादशी व्रत कथा एवं व्रत विधि

Vijaya Ekadashi Vrat Katha In Hindi, Vrat Vidhi, Pujan Vidhi | फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को विजया एकादशी कहते हैं। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस व्रत को करने सभी परिस्थितियों पर विजय प्राप्त करने का साम... Read More...

कार्तिक पूर्णिमा व्रत कथा पूजन विधि

Kartik Purnima Vrat Kath Pujan Vidhi in Hindi | कार्तिक पूर्णिमा को कई जगह देव दीपावली के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरारी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। धर्म ग्रंथों के अन... Read More...

देवउठनी एकादशी व्रत कथा और पूजन विधि

Dev Uthani Ekadashi Prabodhini Ekadashi Dev Uthani GyarasVrat Katha Pujan Vidhi in Hindi | कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादश को देवउठनी एकादशी, देवउठनी ग्यारस या प्रबोधिनी एकादशी के नाम से जानी जाती है। धार्मि... Read More...

ऋषि पंचमी व्रत कथा | व्रत विधि | महत्व

Rishi Panchami Story in Hindi | ऋषि पंचमी का व्रत भाद्र पद की शुक्ल पंचमी को किया जाता है। इस दिन सप्तऋषियों की पूजा की जाती है। यह व्रत गणेश चतुर्थी के अगले दिन और हरतालिका तीज के दूसरे दिन किया जाता है। इस व्... Read More...

रामयण काल के 10 प्रमुख मायावी राक्षस

Demons of Ramayan Era | रामायण काल में कई मायावी राक्षस हुए है, जिन्होंने रामायण में अलग-अलग समय पर अपनी खास भूमिका निभाई थी। इस स्टोरी में हम रामायण काल के ऐसे ही 10 राक्षसों के बारे में बताएंगे जिनका वर्णन वा... Read More...

देवशयनी एकादशी – व्रत कथा, महत्व व पूजन विधि

Devshayani Ekadashi – आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी कहते हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार, इस दिन से भगवान विष्णु चार महीने तक पाताल में शयन करते हैं। ये चार महीने चातुर्मास कहलाते हैं। चातुर्म... Read More...

कहानी महिषासुर की –कौन था महिषासुर, क्यों पड़ा उसका ये नाम

Mahishasur Story in Hindi | महिषासुर (Mahishasur) दानवराज रम्भासुर का पुत्र था, जो बहुत शक्तिशाली था। कथा के अनुसार महिषासुर का जन्म पुरुष और महिषी (भैंस) के संयोग से हुआ था। इसलिए उसे महिषासुर कहा जाता था। वह ... Read More...

शिव कथा – जानिए भगवान शिव क्यों कहलाए त्रिपुरारी

Shiv Katha in Hindi: कार्तिक मास की पूर्णिमा को त्रिपुरारी पूर्णिमा भी कहते हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार, इसी दिन भगवान शिव ने तारकाक्ष, कमलाक्ष व विद्युन्माली के त्रिपुरों का नाश किया था। त्रिपुरों का नाश करने ... Read More...