देवी गायत्री मंत्र

मान्यता है कि गायत्री माँ की पूजा करने से घर में सुख समृद्धि का वास होता है। माँ गायत्री को शक्ति, ज्ञान, पवित्रता तथा सदाचार का प्रतीक कहा जाता है। इनकी आराधना करने से दया भाव, आदर भाव आदि की प्राप्ति होती है।... Read More...

काली माँ के मंत्र

काली माँ को प्रसन्न करके आप अपने जीवन से भय और संकट से मुक्ति पा सकते हैं। काली माँ शक्ति और बल की देवी हैं। इनकी अराधना करने से आप इच्छानुसार फल भी पा सकते हैं। आइये जानते हैं काली माँ को प्रसन्न करने के लिए क... Read More...

क्यों पिया श्री कृष्ण ने राधा के पैरों का चरणामृत

Radha Krishna Hindi Story चरणामृत से सम्बन्धित एक पौराणिक गाथा काफी प्रसिद्ध है जो हमें श्रीकृष्ण एवं राधाजी के अटूट प्रेम की याद दिलाती है। कहते हैं कि एक बार नंदलाल काफी बीमार पड़ गए। कोई दवा या जड़ी-बूटी उ... Read More...

पुतना सहित इन 5 राक्षसों का वध किया था बाल कृष्ण ने

Bal krishna kill these 5 demon- Hindi Story : देवकी और वसुदेव के विवाह के समय आकाशवाणी हुई थी कि देवकी के गर्भ से जन्म लेने वाली आठवीं संतान कंस का वध करेगी। इसके बाद कंस ने देवकी और वसुदेव को मथुरा के कारागृह ... Read More...

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग- कुंभकर्ण के पुत्र को मार कर यहां स्थापित हुए थे भगवान शिव

Bhimashankar Jyotirling Hindi Story : भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में भीमाशंकर का स्थान छठा है। यह ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पुणे से लगभग 110 किमी दूर सहाद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की स्... Read More...

देवी माँ ने भ्रामरी देवी और शाकंभरी माता का अवतार?

Bhramari devi and Shakambari mata Hindi story ऐसे हुआ भ्रामरी देवी का अवतार देवताओं की सहायता के लिए देवी ने अनेक अवतार लिए। भ्रामरी देवी का अवतार लेकर देवी ने अरुण नामक दैत्य से देवताओं की रक्षा की। इसकी... Read More...

इस कारण देवर्षि नारद को बनना पड़ा था एक बार बंदर !

Why Did Narada Become Monkey Faced? श्री नारद बड़े ही तपस्वी और ज्ञानी ऋषि हुए जिनके ज्ञान और तप की माता पार्वती भी प्रशंसक थीं। तब ही एक दिन माता पार्वती श्री शिव से नारद मुनि के ज्ञान की तारीफ करने लगीं। श... Read More...

शिव भक्त नंदी की रोचक कहानी

शिव भक्त नंदी शास्त्रों के अनुसार शिलाद ऋषि ब्रह्मचारी थे। इसलिए उन्हें ये डर सताने लगा कि उनके बाद उनका वंश खत्म हो जाएगा। इसलिए उन्होंने एक बच्चा गोद लेने का निर्णय लिया, लेकिन वे साधारण नहीं बल्कि विशेष बच... Read More...

कैसे हुआ द्वारिकाधीश श्री कृष्ण का तुलादान

द्वारिकादीश का तुलादान एक बार देवर्षि नारद के मन में आया कि भगवान् के पास बहुत महल आदि है है, एक- आध हमको भी दे दें तो यहीं आराम से टिक जायें, नहीं तो इधर -उधर घूमते रहना पड़ता है । भगवान् के द्वारिका में बहुत... Read More...

धनतेरस के पीछे की पौराणिक कथा जानकर आप हैरान रह जायेंगे|

  एक बार यमराज ने अपने दूतों से प्रश्न किया- क्या प्राणियों के प्राण हरते समय तुम्हें किसी पर दया भी आती है? यमदूत संकोच में पड़कर बोले- नहीं महाराज! हम तो आपकी आज्ञा का पालन करते हैं। हमें दया-भाव से क्या... Read More...